☚ लेसन के लिए यहाँ क्लिक करे ।

LESSON 16



स्त्री शिक्षा


328 words



01 स्त्री को शिक्षा देना परिवार को शिक्षित बनाना है |

02 शिक्षा का उद्देश्य विकास है |

03 संसार परिवर्तनशील है |

04 यह स्थिर नहीं है |

05 स्त्री और पुरुष जीवनरूपी गाड़ी के दो पहिये है |

06 यदि गाड़ी का एक पहिया ठीक न हो तो गाड़ी का चलना असंभव है |

07 अतः स्त्री को शिक्षित बनाना अनिवार्य है |

08 शिक्षा ज्ञान प्रदान करती है |

09 स्त्रियों को यह अधिकार है की वे शिक्षित बने |

10 स्त्रियों पुरुषों की साझीदार है |

11 उनके अभाव में पुरुष अधुरा है |

12 उनको यह अधिकार है की उन्हें हर प्रकार की शिक्षा मिले|

13 शारीरिक दृष्टिकोण से स्तरीय पुरुषों से भिन्न होती है |

14 उनका शारीर कोमल होता है |

15 उनका मस्तिष्क भी बड़ा संवेदनशील होता है |

16 उनकी बुद्धि तीक्ष्ण होती है |

17 उनकी मनोवृति भिन्न होती है |

17 कुछ लोग सह शिक्षा के पक्ष में है |

18 कुछ लोग उन्हें पुरुषों से भिन्न प्रकार की शिक्षा देने के पक्ष में है |

19 कुछ लोग उन्हें दुसरे ढंग की शिक्षा देने के पक्ष में है |

20 वे घर का कार्य करती है |

21 वे अन्य सेवाए भी करती है |

22 स्त्री को भिन्न-भिन्न रूपों में कार्य करना पड़ता है |

23 वह माँ है | वह बहन है | वह नागरिक है |

24 स्तरीय जन्मा से ही पुजारिन होती है |

25 वे केवल सेवा करना जानती है |

26 सेवा के बदले उन्हें कुछ नहीं चाहिए |

27 यदि वे शिक्षित हो तो वे विशेष सहायक सिद्ध होती है |

28 वे हमारे घर को स्वर्ग बना सकती है |

29 साथ ही वे हमारे घर को नर्क भी बना सकती है |

30 जीवन वास्तविक है |

31 इसे वास्तविक बनाने के लिए उन्हें शिक्षित करना आवश्यक है |

32 उन्हें उत्साही और सदाचारी बनाने के लिए ज्ञान देना आवश्यक है |

33 उन्हें शिक्षित बनान एक महँ कार्य है |

34 यह एक पुनीत कार्य है |

35 कुछ लोग से व्यर्थ समझते है |

36 कुछ लोग इसे निराशाजनक समझते है |

37 स्त्रिया घर के कार्य करती है |

38 वे हमारे जीवन ओ उन्नत बना सकती है |

39 एक शिक्षित स्त्री हमीं स्वर्ग तक पंहुचा सकती है |